आखिर क्या है ओगस्टा वेस्टलेन्ड मामला

ओगस्टा वेस्टलेन्ड हेलिकोप्टर डील मामले राज्यसभा में गरमागरमी का माहोल छाया हुआ है। भाजपा सरकार कोंग्रेस पे आरोपों पे आरोप लगा रही है और कोंग्रेस इसको भाजपा की चाल बता रही है। भाजपा के सुब्रमण्यम स्वामी ने कुछ दस्तावेज सामने रखके आरोप लगाया था की 6 गुने ज्यादा पुंजी से यह डिल की गइ थी और खरीदे गये हेलिकोप्टर के बजाय दुसरे हेलिकोप्टर्स से ट्रायल किया गया था। ईस डिल को तत्कालिन रक्षामंत्री एके एन्टोनी ने हरी झंडी दिखाइ थी।
इन्टरनेशनल कायदे के मुताबिक हेलिकोप्टर केबिन हाइट 1.45 मीटर होने चाहिए लेकिन उस समय की युपए सरकार द्वारा इस को बदल कर केबिन हाइट 1.80 मीटर किया गया। इस 4877 करोड से अधिक के इस स्केम में से सोनिया गांधी को भी 125 करोड की लांच मिलि होने का स्वामी ने आरोप लगाया है।

Image Source

वचेटिया क्रिश्चिन माइकल के पिता कोंग्री नेताओ के साभ संबंध होने का आरोप भी लगाया हया था। इटालियन कोर्ट ने अपने सुनवाइ में कहा की इस डिल का रास्ता साफ करने के लिए पोलिटीकल सेक्रेटरी एपी को 125 करोड दिये गए थे। यह एपी कौन है उस पर अभी भी पडता पडा हुआ है। हालांकी 2004 के इस घोटाले का उल्लेख कर क्रिश्चियन माइकल ने बताया की इससे वह इन्दिरा गांधी या राहुल गांधी से कभी नहीं मिला।

पहले 8 हेलिकोप्टर खरिदने का सौदा हुआ था लेकिन बाद में उसे स्थगित किया गया और 4 हेलिकोप्टर खरिदे गये थे। यह डिल हेलिकोप्टर की मुख्य रकम से 6 गुनी ज्यादा रकम से हुइ थी। इटालि की कोर्ट ने अपनी सुनवाइ के दौरान इसमें सिग्नोरा का हाथ होने का भी उल्लेख किया था। सिग्नोरा एक इटालियन शब्द है जिसका हिन्दी मतलब होता है श्रीमती। तब यह श्रीमती कौन थी इस सवाल पर अभी भी परदा पडा हुआ है।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी सवाल उठाया की कोइ भी टेन्डर ओरिजनल इक्विपमेन्ट मेन्युफेक्चर ही भर सकता है, ऐसे में ओगस्टा वेस्टलेन्ड ओरिजिनल मेन्युफेक्चर न होने के बावजुद उसे कैसे टेन्डर मिल गया। एवं सवाल उठाया की सौदे के दौरान किसके आदेश से फिल्ड इवोल्युशन नियम बदले गये थे?

इस मामले में पूर्व एर मार्शल एस. पी. त्यागी की पूछताछ की गइ थी। कडी इन्कवायरी के त्यागी ने इस डिल से पैसा मीले होने की बात को स्वीकार भी कर लीया है। दुसरी तरफ इटालि कोर्ट ने सोनिया गांधी को क्लीन चिट दी है। कोंग्रेस इस मामले में राज्यसभा में जरूरी दस्तावेज भी पेश करने वाले थे। हालां की सुब्रमण्य स्वामी के दावे के मुताबिक उनके पास इस डिल में जीनको पैसे मीले हैं उन सबी की सबकी लिस्ट है। तब कोंग्रेस ने आरोप जवाब में कहा की सुब्रमण्यम के पास यह सारे सबूत कहां से आए हैं। हाल में तो भाजपा सिग्नोरा की खोज में है।

Save

Leave a Reply