मुरुगनाथम की कहानी उन्हीके जुबानी

मुरुगनंथम ये वो शख्स है जो की सोशल मीडिया के उपर बहुत दिन से छाए हुए है और खूब सुर्खियाँ बटोर रहे है , आखिर इन्होने काम ही कुछ ऐसा किया है ये मासिक धर्म यानी मेंस्तुरे साइकिल के बारे में जागरूकता जगा रहे है | इन्होने ऐसी चीज़ बनादी है जिससे की आसानी से सस्ते और अच्छे पैड बन पाए | इन्हें इस होनार काम के लिए पद्मश्री पुरस्कार भी मिलावा है | इनके पूरी दुनिया भर में इंटरव्यू लिए जा रहे है | कई इंटरव्यू में इन्होने ऐसा कुछ बता दिया जिसकी वजह से मुरुगनंथम को ताने सुनने को मिलते थे , जिसकी वजह से मुरुगनंथम अंदर से टूट गये थे लेकिन कुछ करने की लालसा रखते थे | अक्षय कुमार की आगमी फिल्म पैड मेन इन्ही के उपर बेस्ड है | अक्षय इनकी यानी मुरुगनंथम की बहुत सराहना करते है तथा उन्होंने ये भी ऐलान किया था की फिल्म से कुछ कमाई की हिस्सा अक्षय मुरुगनंथम को देंगे |
[xyz-ihs snippet=”Link-Res”]
मुरुगनंथम बताते है की उनकी शादी 90 के दशक में हुई थी जिस समय लोगों की सोच बहुत कम थी यानी उस समय पीरियड को बहुत बड़ी चीज़ माना जाता था तथा लड़कियों को कुछ भी छूने नही दिया जा सकता था | उस समय उनकी वाइफ को जब पीरियड आते थे तो उनको बहुत गंदे कपडे काम में लेने पड़ते थे जिसकी वजह से कई बार इन्फेक्शन भी हो जाता था जो की मुरुगनंथम को बहुत निराश करता था | मुरुगनंथम को उस समय समाज बदलने का आईडिया आया उन्होंने निश्चय किया की अब वो पैड बनायेंगे और महिलाओ की दिक्कत को दूर करेंगे उन्होंने वैसा ही किया लेकिन लोग उनको पागल समझने लगे थे लोग कहते थे की ये भुत की चपेट में आ गया है कोई क्या कहता तो कोई क्या लेकिन मुरुगनंथम ने हार नही मानी थी और उन्होंने ऐसी मशीन बनाई जिसे की काम आसन हो गया | मुरुगनंथम बताते है की उन्हें इस काम को करने में बहुत समय लगा करीबन साडे नो साल | मुरुगनंथम और बताते है की लोग उन्हें हिंजड़ा समझते थे लोग कहते थे की ये सटिया गया है | फिलहाल मुरुगनंथम अपनी फैक्ट्री को चलाते है जो की बहुत कम दर पर पैड बनाती है |

Leave a Reply