इसरो ने दिया भारत को नए साल का तोहफा : 31 उपग्रहों को लांच करेगा जाने पूरी ख़बर

इसरो ये हमारे देश का नासा है तथा देश का गर्व है , हमारे देश को इसने बहुत कुछ दिया है और आगे भी देता रहेगा । इसरो ने अभी अभी न्यूज़ जारी की है कि वो नए साल में 31 उपग्रहों को पोलर सॅटॅलाइट द्वारा लांच करेगी । अभी लॉन्चिंग की डेट फाइनल नही हुई है हो सकता है इसमें भारत का अर्थ आब्जर्वेशन सैटेलाइट कार्टोसैट-2 भी हो । इसमें हमारे देश का सबसे अच्चा उपग्रह पेलोड भारत का सैटेलाइट कार्टोसैट-2 भी हो सकता है। वहीं पीएसएलवी-सी40 को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र से लांच किया जा सकता है । हमारे इस मिशम मे नैनो के साथ साथ माइक्रो सॅटॅलाइट भी लॉन्च होगी जो कि बहुत अच्छी बात है । इस मिशम को चेक और निरक्षण करने के लिए मिशन रेडीनेस रिव्यू कमेटी व लांच आथोराइजेशन बोर्ड शीर्घ ही एक मीटिंग का आयोजन कर सकते है। हरिकोटा जो कि आंध्र प्रदेश में है वहाँ से अंतरिक्ष यान पीएसएलवी-सी40 को भेजा जाएगा। हमारे इस काम में दूसरे देशों ने भी हिस्सा लिया है और 28 छोटे उपग्रह शामिल किये हैं।

पिछले मिशन में कामयाब नही ही पाया था इसरो । हमें पता होना चाहिए कि बीते वर्ष यानी 2017 – 31 अगस्त को नेविगेशन सैटेलाइट आईआरएनएसएस-1 एच लांच की गई थी , वो पीएसएलवी से गई थी । हीट शील्ड न ओपन होने की वजह से सैटेलाइट अंतरिक्ष में पहुंच गया। अब वह कूड़े – कचरे के जैसे धरती के चारों ओर घूम रहा है। हमारे देश को इस नाकामयाबी के बाद बहुत बड़ा बड़ा झटका लगा जिसकी वजह से हमने बीते कुछ महीने में कुछ कमाल नही किया। इस साल में कुछ कमति बती दूर करके फिर इसरो मिशन पर रवाना किया जाएगा। सबसे ज्यादा जो इस बार ध्यान दिया गया वो लोड फेयरिंग यानी हीट शील्ड पर दिया गया क्यो की पिछली बार भी इसी की वजह से हम असफल हुए थे और इसरो इस बार नही चाहता के उसे हार का सामना करना पड़े । आपको बतादें इसरो एक रिपोर्ट देता जिससे पता चलता है कि अगर ये मिशन सूक्स्फुल्ल होता है तो हमे बहुत फायदा होगा । आपको जानकर आश्चर्य होगा जब हम आपको इस मिशन की कुल लागत बतायेंगे तो चलिए बताई देते हैं इस मिशन में कुल 76 करोड़ का खर्चा आया है।

Leave a Reply