क्या है बरमुंडा ट्राइंगल का रहस्य ?


ये धरती और पूरा ब्रह्मांड विचित्र और अद्भुत रहस्यों को अपने में समाये हुए है। इसमे से कुछ रहस्य हमारे अंदर उत्सुकता जागते है तो कुछ हमे हैरान करते है। कुछ हमें डरते है तो कुछ हम में नयी आशा की किरण जागते है। ऐसा ही एक हैरान करने वाला रहस्य है बरमुंडा ट्रायंगल का। आइये आज हम आपको इस अद्भुत रहस्य से अवगत कराते है।
क्या है बरमुंडा ट्रायंगल?
बरमट्रायंगल अल्टान्टिक महासागर की गहराइयों में छुपा हुआ एक रहस्यमय त्रिभुजाकार का एक स्थान है,जहाँ से गुजरने वाले जहाज, हवाई जहाज़ बिना किसी नामोनिशान के गायब हो जाते है। अगर किसी हादसे में किसी जहाज़ का मलबा मिल भी गया है तो उसके कर्मी दल के बारे में आज तक कोई नहीं जान पाया कि महासागर की गहराइयों में वो कहाँ गम हो गए। ये सिलसिला सदियों से चलता आ रहा है। समुद्र की गहराइयों से भली भांति परिचित क्रिसटोफर कोलंबस ने भी इसको महसूस किया है। आज की तारीख़ तक, 1000 से भी ज्यादा जहाज़ बिना किसी नमो निशान के गम हो चुके है। ये क्यों होता है, कैसे होता है? कोई आज तक इसकी सटीक वजह नहीं बता पाया है। यही वज़ह है कि बरमुंडा ट्रायंगल सदियों से एक राज ही बना हुआ है। चलिए हम भी इस राज से आपक़ो थोड़ा अवगत होते है।
आखिर कहां है ये बरमुड़ा ट्रायंगल?
सभी अनुमानों और तथ्यो के आकलन के बाद आख़िरकार वैज्ञानिक इस रहस्यमय जगह का पता लगाने में कामियाब रहे। यह स्थान अमेरिका के दक्षिणी-पूर्वी तट एंड अटलांटिक महासागर के मध्य में बना एक त्रिभुजाकार क्षेत्र है जिसके तीन सिरे है- मियामी(फ़्लोरिडा), सन जुआन( पुरतो रिको), और बरमुडा। विन्सेन्ट गड्डीस, वो पहले अमेरिकी लेख़क थे जो इसको परिभाषित करने में सफ़ल हुए।जिन्होंने इस क्षेत्र से गुजरने पर कुछ विचित्र बातो को अनुभव किया था। जैसे उनके कंपास की सुई का हिलना, आसमान में बिजली का चमकना।अभी तक यह जगह कितने ही जहाज़ और हवाई जहाजों को निग़ल चुका हैं जिनमे से कुछ इस प्रकार है- फ्लाइट 19, पीबीएम मार्टिन मरीन,तुडोर स्टार टाइगर, फ्लाइट डीसी-3, फ्लाइट 441,सी-54 स्काई मॉस्टर। यह सूची यही ख़त्म नहीं होती है।
वैज्ञानिको की रिसर्च के हिसाब से इस क्षेत्र की विचित्रता के कई कारन है जैसे इस जगह में मेथेन गैस का बहुत ज़्यादा मात्रा में पाया जाना, सर्गोस समुद्र जहां कोई किनारा नही है, बस चारों तरफ़ पानी का तेज़ बहाव है जो हर चीज़ को अपने में समा लेता है, इलेक्ट्रॉनिक फोग जो अनोखा बादलो का समुह है जो समुद्री उपकरणों को खराब कर देता है।
कितनी ही संभावनाएं, कितने अनुमान और कितने सिद्धान्त आज तक बनाये गए है पर कोई भी इस समुद्र के पानी की डेंसिटी को इतना बढ़ा देती है जिससे उस क्षेत्र से गुजरने वाले जहाज एक चट्टान की तरह डुबते चले जाते है। हवाई बम- उपग्रहों से मिलने वाली तस्वीरो में ये पाया गया है कि इस क्षेत्र में पाए जाने वाले बादल आसमान में विस्फोट करने में सक्षम है जिसमे जहाज़ और हवाई जहाज़ विस्फोट की चपेट में आने से डूब जाते है। रहस्य की सही वजह नहीं बता पाया। शायद कुछ रहस्य इंसान की समझ से परे होते है।

Leave a Reply