अघोरियों की रहस्यमयी दुनिया की कुछ अनजानी रोचक बातें

Image Source

आप सभी को यह बात तो पता ही होंगी की अघोर पंथ हिंदू धर्म का एक संप्रदाय है और इसका पालन करने वालों को ही अघोरी कहते हैं। अघोर पंथ की उत्पत्ति पर आज भी संदेह है लेकिन इनके विचित्र व्यवहार और रहस्यमय जीवन शैली की वजह से यह काफी चर्चित है ये भारत के प्राचीनतम धर्म “शैव” (शिव साधक) से संबधित हैं। तो आइये जानते है अघोरी पंथ और अघोरी साधुओ से जुडी कुछ रोचक जानकारी ।
1) अघोरियों की पहचान यही है कि वे किसी से कुछ मांगते नहीं है ।
2) अघोरी साधू तब ही संसार में दिखाई देते हैं जबकि वे पहले से नियुक्त श्मशान जा रहे हो या वहां से निकल रहे हों। दूसरा वे कुंभ में नजर आते हैं।
3) अघोरी साधुओ को कुछ लोग ओघड़ भी कहते हैं।
4) अघोर का अर्थ है जो घोर नहीं हो, डरावना नहीं हो, जो सरल हो, जिसमें कोई भेदभाव नहीं हो।
5) अघोरी साधना पूर्ण होने के बाद हमेशा- हमेशा के लिए हिमालय में लीन हो जाते है।
6) अघोरियों को इस पृथ्वी पर भगवान शिव का जीवित रूप भी माना जाता है।
7) अघोरी मूलत: तीन तरह की साधनाएं करते हैं। शिव साधना, शव साधना और श्मशान साधना।
8) आपको शायद यकीं न हो लेकिन अघोरियों की साधना में इतना बल होता है कि वो मुर्दे से भी बात कर सकते हैं।
9) अधिकतर अघोरियों की आंखें लाल होती हैं, मानो वो बहुत गुस्सा हो, लेकिन उनका मन उतना ही शांत भी होता है।
10) अघोरी गले में धातु की बनी नरमुंड की माला ही पहनते हैं ।

[xyz-ihs snippet=”Disply-Res”]

Image Source

11) भारत मैं सबसे ज्यादा अघोरी बनारस और असम के कामख्या मंदिर में रहते है ।
12) अघोर सम्प्रदाय के लोग मरे हुए शरीर के मॉस को प्राकृतिक पदार्थ मानते हुए उसे भी खाते है।
13) अघोरी लोग गाय का मांस छोड़कर बाकी सभी चीजों को खाते हैं। मानव मल से लेकर मुर्दे का मांस तक।
14) अघोरी जानवरों में वो सिर्फ कुत्ते को पालना पसंद करते हैं।
15) अघोरपंथ में श्मशान साधना का विशेष महत्व है। इसलिए वे श्मशान में रहना ही ज्यादा पंसद करते हैं।
16) अधिकतर अघोरी साधू दिन में सोते यह और रात को श्मशान में साधना करते हैं ।
17) अघोरियो का अस्तित्व कई हजारों सालों से हैं, सबसे पहले अघोरी साधु कीनाराम थे।
18) राख़ या भष्म अघोरियो के लिए वस्त्र की तरह है जिसे भगवान शिव ने भी धारण किया था।
19) अघोरियों के पास भूतों से बचने के लिए एक खास मंत्र होता है। साधना के पूर्व अघोरी अगरबत्ती से दीपदान करता है और फिर उस मंत्र को जपते हुए वह चिता के और अपने चारों ओर लकीर खींच देता है।
20) कई अघोरी दावा कर चुके हैं कि कई लाइलाज बीमारियों का इलाज उनके पास है।
21) कहा जाता है की अघोरी बाबाओं को खोपड़ी का खून में बड़ा मजा आता है।
22) अघोरी’ की पूजा बिना शराब और गांजे के पूरी नहीं होती है।
23) ऐसा माना जाता है की अघोरी बाबा किसी को अगर आशीर्वाद देते हैं तो वो इंसान हमेशा सुखी होता है।

 

Leave a Reply